बदलाव

8
359
PicsArt_04-16-01.39.31
❎❎❎badle ki aag ✔✔✔badlav ki aag
5
(2)

बदलना चाहती हूँ मैं बहुत कुछ,,

खुद से शुरू करने को तैयार हूँ ।

साक्षी हूँ, प्रत्यक्ष है सब कुछ,,

पर कुछ बंधनों में दायरार हूँ ।

मन ने सवाल उठ रहे हैं कुछ,,

पूछने के लिए तैयार हूँ ।।।।

बदलाव के लिए शक्ति चाहिए…
शक्तिशाली लोग भ्रष्टाचार के शिकार रहे ।
बदलाव के लिए बस एक शूरवीर ही काफी है …
वह शूरवीर भी अंधे कानून के सीमादार रहे ।
बदलाव के लिए उपाध्याय सर्वप्रथम है …
खेद ! वह गुरु भी अपनी झोली भरते ना हार रहे।
बदलाव के लिए जो म्होरक्या/ पुदारी बने ..
वह वाट में बाधा साद रहे।

माणुसकी विलुप्त हुई ”’
सब हाव-हाव के धाय हुए ।।।

रामचंद्र कह गए सिया से ,,
ऐसा कलयुग आएगा ………….
गाँधी ने भी कहा था मित्रों,,
बदलाव स्वयं से आरंभ करो ……….
ये काल स्वयं ही बदल जाएगा।।।

Rate This Post

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 2

No votes so far! Be the first to rate this post.