ये दूरियाँ

4
338
4.6
(5)

हम कुछ पाने की चाहत में दूर तुमसे आ गए

तुम हमको दिखाने की ख़ातिर और फासलें बढ़ा गये. .

Rate This Post

Click on a star to rate it!

Average rating 4.6 / 5. Vote count: 5

No votes so far! Be the first to rate this post.