लक्ष्य

2
334
4.7
(3)

लग्न की आग ऐसी लगाओ , कि  बुझाए ना बुझे ।

आँखें करलो अर्जुन जैसी ,
निशाना हटाए ना चूके ।
यह जिंदगी है मित्रों ,
सुख- दुख तो आते रहेंगे !!
लक्ष्य ऐसा निर्धारित करो ,
कि मन भटकाए ना भटके ।।।

________ unnati Chaudhary

Rate This Post

Click on a star to rate it!

Average rating 4.7 / 5. Vote count: 3

No votes so far! Be the first to rate this post.